एजुकेशन और कोचिंग माफियाओ के खिलाफ भी कभी कारवाई करेगी सरकार !?
पिछले हफ्ते देश की सबसे प्रतिष्ठित इंजीनियरिंग प्रवेश परीक्षा IIT-JEE एडवांस 2021 का रिजल्ट का परिणाम घोषित किया गया !और एक बार फिर शुरू हो गया झूठे ,फर्जी ,कूटरचित विज्ञापनों के माध्यम से IIT में सफल आये छात्रों को अपनी कोचिंग की सफलता बताकर सरासर धोखाधड़ी कर छात्रो और अभिभावकों को बरगलाने का अपराधिक कृत्य करने का विज्ञापन खेल !? जबकि देश में झूठे ,फर्जी,कूटरचित और भ्रमित कर विज्ञापन करने वाले संस्थानों के खिलाफ कारवाई करने के लिए न सिर्फ भारतीय दंड सहिंता के तहत गैरजमानती कानूनी धाराए और प्रावधान है वरन उपभोक्ता फोरम में भी शिकायत की जा सकती है!
18 अक्टूबर 2021 को दैनिक भास्कर और पत्रिका राष्ट्रिय अखबारों के फ्रंट पेज पर एक से लेकर 3 पन्नो पर कोटा के प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान एलेन(ALLEN) और दिल्ली के कोचिंग संस्थान फिट्जी (FIITJEE) ने फुल पेज पर अपने कोचिंग संसथान से सफल आये छात्रो को मय फोटो ,रेंकिंग और कोचिंग की यूनिफार्म सहित फोटो प्रकाशित किये है !आल इण्डिया रेंकिंग के आधार पर दोनों कोचिंग संस्थानों ने कुल 25 ऐसे छात्रो की सफलता का दावा किया है जो कि दोनों कोचिंग संस्थानों के विज्ञापन में है !
यदि आप 18 अक्टूबर 2021 को दैनिक भास्कर और पत्रिका राष्ट्रिय अखबारों में प्रकाशित करवाए दोनों कोचिंग संस्थानों के विज्ञापनों को देखेंगे तो आप पाएंगे AIR-1,7,12,13,14,22,23,25,26,27,28,31,46,52,54,62,70,72,76,79,88,89,93,94,98 रेंकिंग प्राप्त सफल छात्र दोनों कोचिंग संस्थानों के छात्र है !? ये कैसे संभव है ! दोनों कोचिंग संस्थानों में से कौन झूठ बोल रहा है और कौन सच !?
पिछले एक दशक से देश के शिक्षा जगत में कोचिंग इंडस्ट्री ने पूरी तरह से कब्ज़ा जमा लिया है !?इंजीनियरिंग ,मेडिकल और सी .ए में एडमिशन लेने की प्रवेश परिक्षाए हो या फिर सरकारी नौकरी में सिलेक्शन के लिए UPSC और PSC जैसी प्रतियोगी परिक्षाए हो ! सब तरफ कोचिंग संस्थाओ ने अपने तथाकथित सफलता के दावो से पुरे देश को विज्ञापनों के जरिये पाट दिया है !लाखो की तादाद में सरकारी और प्राइवेट स्कुलो को प्रवेश और भर्ती परीक्षाओ में छात्रो को सफलता दिलाने में पूर्णतया न सिर्फ अयोग्य और नाकाबिल साबित कर दिया है ! वरन वहा होने वाली पढाई के स्तर पर सवालिया प्रश्न खड़ा कर दिया है !?

Leave a Reply

Your email address will not be published.