@प्रदीप मिश्रा री डिसकवर इंडिया न्यू्ज इंदौर
डॉ विनोद भंडारी को सी बी आई की घोर आपत्ति के बावजूद सेशन न्यायालय ने ही गंभीर आरोपों के मुकदमे से मुक्त किया!?
20 महीने जेल में रहने के बाद! सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत पर बाहर रहने वाले प्री पी.जी मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं के मुख्य आरोपी डॉ विनोद भंडारी और दलाल सुधीर राय को सेशन न्यायालय ने ही मुकदमा शुरू होने से पहले ही सभी आरोपों से मुक्त कर दिया !!!!
खास बात यह है कि जिस कुख्यात और शर्मनाक व्यापम मेडिकल प्रवेश परीक्षाओं के घोटाले मे! जिस प्री पी जी मेडिकल प्रवेश परीक्षा घोटाले की जांच सुप्रीम कोर्ट के कहने पर सी बी आई ने की थी और भोपाल सी बी आई न्यायालय में चार्जशीट पेश की थी उसमे सी बी आई की घोर आपत्ति के बावजूद 10 और प्रभाव शाली आरोपियों को भी मुकदमा शुरू होने से पहले ही आरोपों से मुक्त कर दिया गया!!
उपरोक्त आदेश 1 दिसंबर 2022 को भोपाल सेशन न्यायालय सी बी आई ( व्यापाम केस) न्यायालय के माननीय न्यायाधीश ने आरोपियों की तरफ से CRPC की धारा 227 के तहत डिस्चार्ज आवेदन पर दिया
इसी उपरोक्त आदेश मे दूसरी तरफ श्री अरविंदो मेडिकल कालेज के जनरल मेनेजर और एडमिशन सेल के प्रभारी प्रदीप रघुवंशी, जिसके पास से एस टी एफ ने छात्रों से पी जी मे एडमीशन के लिए प्राप्त किए करोड़ों रुपये ज़ब्त किए थे! और 12 छात्रों जिन्होंने पैसे देकर नकल और पेपर प्राप्त कर! परीक्षा पास की और एडमिशन लिया था! उनके खिलाफ गैर जमानती धाराओं में मुकदमा शुरू करने के लिए सक्षम सबूत और साक्ष्य पाए गए है !
@प्रदीप मिश्रा री डिसकवर इंडिया न्यू्ज इंदौर

Leave a Reply

Your email address will not be published.