अरविंदो मेडिकल कालेज में करोड़ों रुपये का अवैध लेन देन कर एन.आर.आई कोटे की सीटे बेची जा रही है!
*@प्रदीप मिश्रा री डिसकवर इंडिया न्यू्ज इंदौर*
*मेडिकल कालेजों में अवैध रूप से छात्रों को एडमिशन जो व्यापाम घोटाले के नाम से पूरे देश में चर्चित है! मे आरोपी रहे और लंबे समय तक जेल में बंद रहे अरविंदो मेडिकल कालेज और सोसाइटी के पूर्व चेयरमैन डॉ विनोद भंडारी की जगह अरविंदो सोसाइटी की चेयरमैन उनकी पत्नी डॉ मंजू श्री भंडारी को बनाया गया जो वर्तमान में भी अरविंदो सोसाइटी की अध्यक्ष हैं!
लेकिन डॉ मंजू श्री भंडारी को सोसाइटी का अध्यक्ष सिर्फ नाम के लिए है उसकी आड़ में सभी तरह के अवैध, झूठे और कूट रचित दस्तावेजों और गैर कानूनी तरीके से पैसा इकट्ठा करने से लेकर उसे ठिकाने लगाने के काम डॉ विनोद भंडारी द्वारा ही किया जा रहा है!?*
*विश्वसनीय सूत्रों और दस्तावेजों से मिली जानकारी के अनुसार डॉ विनोद भंडारी द्वारा अरविंदो मेडिकल कालेज मे 15 प्रतिशत एन. आर. आई कोटे की सीटे नियमों के विपरीत जाकर असत्य एवं कूट रचित दस्तावेजों द्वारा स्थानीय छात्रों से करोड़ो रुपए लेकर बेची जा रही है!?*
*इस तरह के अवैध धन को छिपाने के लिए अरविंदो सोसाइटी के कई बैंकों में खाते खोले गए!*
1)यूनियन बैंक ऑफ इंडिया- शाखा स्कीम नंबर 54 इंदौर
2)बैंक ऑफ महाराष्ट्र – शाखा पलासिया इंदौर
3)द साउथ इंडिया बैंक – शाखा विजय नगर इंदौर
4)देना बैंक /बैंक ऑफ बड़ौदा – शाखा सुखलिया इंदौर
5)स्टेट बैंक ऑफ इंडिया – अरविंदो कैम्पस इंदौर
6)स्टेट बैंक ऑफ इंडिया – फड़निश कॉलोनी इंदौर
7)सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया – विजय नगर इंदौर
8)एक्सिस बैंक – विजय नगर इंदौर
9)सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया – सियागंज इंदौर
10)स्टेट बैंक ऑफ इंडिया – जी पी ओ इंदौर
11)एच डी एफ सी बैंक – बापट चौराहा इन्दौर
12)एच डी एफ सी बैंक – सत्य साई चौराहा इंदौर
*उपरोक्त सभी खातों का संचालन डॉ श्रींमति मंजू श्री भंडारी व उनके पुत्र डॉ महक भंडारी द्वारा किया जा रहा है! कई सालो तक अरविंदो सोसाइटी के रजिस्टर्ड बाई लार्ज के नियमों के विरुद्ध जाकर डॉ विनोद भंडारी और मंजु श्री भंडारी ने एकल हस्ताक्षर से बैंकों में लेन देन किया है!*
*उपरोक्त खातों की जांच के लिए रजिस्ट्रार एंड फर्म भोपाल को भी शिकायत की गई है! लेकिन अपने प्रभाव और पैसे से डॉ विनोद भंडारी ने जांच रुकवा रखी है!*
*@प्रदीप मिश्रा री डिसकवर इंडिया न्यू्ज इंदौर*

Leave a Reply

Your email address will not be published.