@प्रदीप मिश्रा री डिस्कवर इण्डिया न्यूज़ इंदौर
कलेक्टर साहेब!!! कनाड़िया रोड स्थित मोर्या हिल्स पर अवैध रूप से सेकड़ो की तादाद में हरे भरे कीमती वृक्षों और पेड़ो को काटने पर तत्काल एफ आई आर हो !
सेकड़ो की तादाद में सागौन ,नीम ,आंवला ,अमरुद ,कबीट,अनार ,अंजन,करंज ,बेडा ,बोर सीताफल ,सिरस ,बांस और यूकेलिप्टस के बेशकीमती और पर्यावरण सरंक्षण में उपयोगी वृक्षों ,पेड़ो और पौधो को अवैध रूप से काट कर इंदौर की झंवर फॅमिली और तकरीबन 200 रसूखदार निवेशको ने खुलेआम बेशर्म ,भ्रष्ट और निक्कमे निगम और जिला राजस्व के प्रशाशनिक अधिकारियो के सामने बड़ी बेरहमी से काट कर बेच दिया !?
सरकार की अनुमति के बिना पेड़ को कटाना अपराध है। भारतीय वन कानून 1927 के अनुसार सेक्शन 68 के अंतर्गत पर्यावरण कोर्ट में मामला दर्ज हो सकता है। इसमें पेड़ों की चोरी, पर्यावरण को नुकसान पहुंचने और प्रदूषण एक्ट के तहत मामला दर्ज हो सकता है। पेड़ काटने के मामले में दोषी पाए जाने वाले को पेड़ की किस्म मोटाई के अनुसार जुर्माना किया जा सकता है या 6 माह से लेकर 3 साल की जेल हो सकती है। वही जुरमाने की राशि एक पेड़ की उम्र 50 साल मानकर उसकी उपयोगिता के आधार तय करके जुर्माना की राशि तय की जाती है ! जो की तकरीबन 52 लाख रूपये प्रति पेड़ होती है !?

 

इंदौर जिला राजस्व के सन 2012-2015 के नामांतरण खसरा रिकॉर्ड के अनुसार ग्राम खजराना ,पटवारी हल्का नंबर 30 के अंतर्गत बंगाली चौराहे के आगे कनाड़िया रोड के दोनों तरफ स्तिथ खसरा नंबर 1429/1,1429/2/,1429/3 कुल रकबा 133.30 एकड़ जिसके अवैधानिक रूप से कॉलोनी और फार्महाउस काटने के नाम पर तकरीबन 300 से ज्यादा बटांकन कर इंदौर और मुंबई में बैठे 300 निवेशको को नामांतरित कर दिए गए !?

 

सन 2012-2015 के इंदौर जिला राजस्व नामांतरण खसरा रिकॉर्ड के अनुसार 200 सागौन ,150 नीम ,100 आंवला ,50अमरुद ,20कबीट, 50अनार ,25अंजन,25करंज ,20बेडा ,20बोर ,20सीताफल ,250सिरस ,150बांस ,300 यूकेलिप्टस के पेड़ और तकरीबन 1000 सुब्बल पौधे सरकारी खसरो के रिकॉर्ड में है !?
क्या इंदौर नगरनिगम के अधिकारी ,जिला राजस्व के पटवारी ,तहसीदार ,एस डी एम,अपर कलेक्टर और कलेक्टर साहेब ये बताएँगे की ये बेशकीमती वृक्ष और पेड़ कहा है !?

 

करोडो रूपये की बेशकीमती पर्यावरण संपत्ति को कैसे अवैध रूप से काटकर कर झंवर परिवार और 300 निवेशको ने बेच दिया !? और बिना कोई अपराधिक कारवाई किये कैसे आज तक जमीन के खसरो के बटांकन , सीमांकन और नामांतरण हो रहे है !?कैसे अवैध रूप से रजिस्ट्री हो रही है !?
@प्रदीप मिश्रा री डिस्कवर इण्डिया न्यूज़ इंदौर

Leave a Reply

Your email address will not be published.