नाकाम रहे कृषि मंत्री…

प्याज की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए देश के गृहमंत्री ने संभाला मोर्चा

री-डिस्कवर इंडिया न्यूज इंदौर । देश में प्याज की बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने में नाकाम रहे कृषि मंत्री रामविलास पासवान के बाद अब गृहमंत्री अमित शाह ने मोर्चा संभाला है। देर रात अमित शाह ने प्याज की कीमत को लेकर बैठक बुलाई है। आज भी गृहमंत्री शाह मंत्रालय के अधिकारियों से चर्चा करेंगे। संभवत: सरकार विदेशों से आयातित प्याज की मात्रा को बढ़ाने का आदेश जारी कर सकती है। गौरतलब है कि देश में अधिकांश हिस्सों में प्याज की कीमत 100 से 150 रुपए तक पहुंच गई है, जिसको लेकर देशभर में हाहाकार मचा हुआ है।

165 रुपए किलो प्याज, केंद्र 35,000 टन प्याज करेगा आयात

प्याज की बढ़ती कीमतों से राहत के लिए केंद्र सरकार अगले सप्ताह से 35,000 टन प्याज का आयात करने जा रही है। केंद्र मिस्र तथा तुर्की से आयात करने जा रहा है।

  • केंद्र सरकार अगले सप्ताह से कम से कम 35 हजार टन प्याज के आयात की उम्मीद कर रही।
  • गुरुवार को पणजी में प्याज की कीमत 165 रुपये किलो पर पहुंच गई, जो अब तक का सबसे उच्च स्तर।
  • केंद्र सरकार 6,090 टन प्याज मिस्र से तथा 11,000 टन प्याज तुर्की से मंगा रही।
  • केंद्रीय उपभोक्ता मामलों के सचिव एके श्रीवास्तव ने कहा कि एमएमटीसी ने 21,000 टन प्याज आयात का कॉन्ट्रैक्ट लिया।

इस सीजन में उत्पादन में लगभग 26 फीसदी की गिरावट आने के कारण प्याज की आपूर्ति में कमी के बीच केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के नेतृत्व में मंत्रियों के एक समूह ने हालात का जायजा लिया। इस मामले में गृहमंत्री अमित शाह ने महंगे प्याज को लेकर शाम 5 बजे गृह मंत्री अमित शाह ने मंत्रियों के समूह के साथ संसद में बैठक बुलाई। बैठक में केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, नरेंद्र सिंह तोमर, कैबिनेट सचिव राजीव गाबा और प्रधानमंत्री के सलाहकार पीके सिन्हा भी शामिल हैं। पासवान ने कहा कि प्याज की कीमतें नियंत्रित करने के लिए सरकार हर संभव कोशिश कर रही है। बुधवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी कहा था कि सरकार ने देश में प्याज की कीमतों को नियंत्रित करने के लिए कई कदम उठाए हैं, जिनमें इसके भंडारण से जुड़े ढांचागत मुद्दों का समाधान निकालने के उपाय भी शामिल हैं। अब प्याज को लेकर पासवान ने भी कम उत्पादन से लेकर आयात तक हर मुद्दे पर ट्वीट किए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.